शनिवार, 16 अक्तूबर 2010

सारी दुनिया का बोझ हम उठाती हैं........

         
बंगलौर में एक वनस्‍पति उद्यान है 'लालबाग' । प्रकृति की यह रचना वहीं है।  जैसे कह रही हो- 
   सारी दुनिया का बोझ हम उठाती हैं।  
आप क्‍या कहते हैं.........

कहना न होगा कि यह फोटो मैंने ही अपने कैमरे में कैद किया है।
                                       0 राजेश उत्‍साही 



9 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी तस्वीर। दशहारा के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन चित्र. प्रकृति की विविधता के क्या कहने

    उत्तर देंहटाएं
  3. bhut khoob rajesh ji . prkriti se smvad ka nayab trika soch ko our bhi nai drishti deta hai is vichar ko aapki post ki hui tsveer ne our bhi pukhta kr diya hai .
    bhut bhut dhnywaad .

    उत्तर देंहटाएं
  4. घूमते-टहलते नजर भी साथ हो, कैमरा तभी साथ देता है। अच्छी तलाश, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वृक्षों में अनायास उभर आईं खूबसूरत आकृतियों को कैमरे में कैद करने का तो अपना भी मन करता है..
    ..खूबसूर चित्र खींचा है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपके इस शौंक का तो पता ही नहीं था ... गज़ब का फोटो है ये ...
    आपको और आपके समस्त परिवार को दीपावली की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. फोटो देखकर चकित हूं | प्रक्रति की सुंदर और अदभुद कलाकारी और कलाकारी आपकी कैमरे में कैद करने की | आश्चर्य तो इस बात का भी कि आप बैगलौर कब और कैसे पहुंच गऐ | खैर भला हो नेट का |

    उत्तर देंहटाएं
  8. और हां जयपुर की खूब याद दिलाई | मैं जयपुर में जनमी हूं | वहां का खाना और लोग क्या कहने ! पर इंदौर का खाना पोहे जलेबी शिकंजी सेव दाल बाटी वगैरह वगैरह लम्बी लिस्ट है | वाह स्वाद ! वाह जायका !

    उत्तर देंहटाएं