मंगलवार, 23 नवंबर 2010

'मेरा भी कुछ हक बनता है।'

                                                                                          फोटो: राजेश उत्‍साही
बंगलौर में हर रोज शाम को दफ्तर से घर  रोज पैदल जाना होता है। रास्‍ते में एक दर्जी का घर नजर आता है। यह गाय लगभग हर रोज  उसके घर के सामने मुझे इसी तरह खड़ी मिलती है। जैसे कह रही हो, 'मेरा भी कुछ हक बनता है।'
आप क्‍या कहते हैं ?

17 टिप्‍पणियां:

  1. जी हा ये दृश्य आप के भारत के अनेको घर में मिल जायेगा | मेरे घर में भी माँ एक गाय को अक्सर बचा खुचा खाना खिला देती थी तो धीरे धीरे उसका नियम बन गया और फिर वो हर रोज नियत समय पर दरवाजे पर आ कर खड़ी हो जाती थी और जब कुछ देर तक कोई नहीं आता तो अपने सिंग से दरवाजे को ठोकने लगती थी | हमें ऐसा लगता था की जैसे कोई व्यक्ति दरवाजे को नॉक कर रहा हो | ऐसे ही बहुत सी जगहों पर कुत्ते बिल्ली बंदर आदि को भी लोग हमेसा खाना देते है और वो भी हर रोज दरवाजे पर ऐसे आ कर खड़े हो जाते थे जैसे मेरा भी कुछ हक़ बनाता है |

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये लीजिये मैंने तो पोस्ट से लम्बी टिप्पणी दे दी |

    उत्तर देंहटाएं
  3. आखिर फैशन का मन तो हर किसी को होता होगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. मूक जुबान कोई कोई ही पढ़ सकता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्यों नहीं भई पूरा पूरा हक बनता है
    dabirnews.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. हक बनता होगा तभी तो खडी होती है वहाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वो घर उसी का है, तभी तो घर में जा रही है। हा हा हा हा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्यार की जुबान जानवर बेहतर समझते हैं...दर्जी दयालू होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम से बेहतर समझते हैं यह...अपना हक ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपने तो जानवर के मन को शब्द दे दिए...
    :)

    उत्तर देंहटाएं